GK MPPSC SSC

भौतिक विज्ञान ( Physics ) बिषय से संबंधित महत्वपूर्ण Question and Answer – जो बार – बार प्रतियोगी परीक्षाओं में पूंछे जाते हैं

Most Important Question Physics Hindi Notes
Written by Nitin Gupta

नमस्कार दोस्तो , Welcome to Our Website 🙂

दोस्तो आज की हमारी पोस्ट सामान्य विज्ञान से संबंधित है , इस पोस्ट में हम आपको सामान्य विज्ञान के अंतर्गत भौतिक विज्ञान ( Physics ) बिषय से संबंधित महत्वपूर्ण One Liner Question उपलब्ध करायेंगे , जो आपको आने बाले सभी Exams जिनमें Scoience से संबंधित Question पूंछे जाते है उन सब में काम आयेगी ! इसके अलाबा हम आपको इसी तरह की Chemistry व Biology से संबंधित पोस्ट भी उपलब्ध करायेंगे तो आप हमारी बेबसाइट को Regularly , Visit करते रहिये !  

सभी बिषयवार Free PDF यहां से Download करें

Most Important Question Physics Hindi Notes

  • एक पिंड नियत चाल से वक्र पथ पर गतिमान है तो पिंड के त्वरण की दिशा पिंड की गति के लंबवत होती है l
  • वृतीय पथ पर समान चल से गतिमान पिंड पर त्वरण लगातार गति की दिशा बदलने के कारन उत्पन्न होता है 
  • गैस के अणुओं (Molecules ) की गति अनियमित होती है 
  • एक ट्रैन जैसे ही चलना प्रारंभ करती है उसमें बैठे हुए यात्री का सिर पीछे की ओर झुक जाता है , ऐसा गति के जड़त्व के कारन होता है l
  • तेल से अंशतः भरा हुआ टैंकर समतल सड़क पर एक समान त्वरण से जा रहा है तो तेल का मुक्त पृष्ठ तनाव बल के कारन परवलय (Parabole ) के आकर का हो जायेगा l
  • पृथ्वी सूर्य के चारो ओर निश्चित कक्षा (Orbit ) में चक्कर (Revolution ) गुरुत्वाकर्षण बल के कारन लगाती है l
  • वृतीय गति करते हुए पिंड की चाल थता पथ की त्रिज्या दोनों को दोगुना कर देने पर अभिकेंद्रिय बल में दो गुना परिवर्तन होगा l
  • पृथ्वी पर ऊर्जा का सबसे महत्वपूर्ण स्रोत सौर ऊर्जा है l
  • सौर ऊर्जा का रूपांतरण रासायनिक ऊर्जा में प्रकाश संश्लेषण (Photosynthesis ) के समय होता है l
  • किसी वास्तु का जड़त्व द्रव्यमान पर निर्भर करता है l
  • सूर्य से पृथ्वी की दुरी6 मिलियन कि० मी० है प्रकाश वर्ष दुरी कि इकाई है l
  • प्रकाश वर्ष एक वर्ष में प्रकाश द्वारा तय की जाने वाली दूरी है I
  • यदि पृथ्वी की त्रिज्या 1% घटा दी जाए तो गुरुत्वीय त्वरण (g) बढ़ जायेगा (क्योंकि g 1/Re)
  • किसी पिंड का भार पृथ्वी के ध्रुवों (pole) पर अधिकतम होता है I
  • ब्रह्मगुप्त ने न्यूटन से पूर्व ही बता दिया था कि सभी वस्तुएँ पृथिवी कि ओर आकर्षित होती है I
  • ग्रहों कि गति के नियम केप्लर ने प्रतिपादित किया I
  • किसी उपग्रह को ग्रह के परितः घूमने हेतु अभिकेंद्रीय बल ग्रह के गुरुत्वाकर्षण बल से प्राप्त होता है I
  • न्यूटन के गति के प्रथम नियम से बल कि परिभाषा प्राप्त होती है I
  • यदि दो वस्तुओं के बीच कि दूरी आधी कर दी जाए तो उनके बीच गुरुत्वाकर्षण बल पहले से चार गुना हो जायेगा I
  • गुरुत्वाकर्षण बल का उल्लेख न्यूटन ने अपनी ‘प्रिंसिपिया’ (principia) नामक पुस्तक में किया है I
  • पृथ्वी तल के अति निकट चक्कर लगाने वाले उपग्रह की कक्षीय चाल लगभग 8 किमी./सेकेंड़ होती है I
  • पृथ्वी के अति निकट चक्कर लगाने वाले उपग्रह का परिक्रमण काल 1 घंटा 24 मिनट होता है I
  • यदि पृत्वी अपनी वर्तमान कोणीय चाल से 17 गुनी अधिक चाल से घूमने लगे तो भूमध्य रेखा पर रखी वस्तु का भार शून्य हो जायेगा I
  • प्रकाश ऊर्जा का संचरण निर्वात में विद्युत चुंबकीय तरंगों के रूप में होता है I
  • प्रकाश का सर्वाधिक वेग निर्वात में होता है I
  • प्रकाश किरणों की प्रकृति दोहरी अर्थात तरंग और कण दोनों के समान होती है I 
  • प्रकाशीय गेज प्रकाश के परावर्तन के सिद्धांत पर कार्य करता है I
  • प्रकाश का कणिका (photon) सिद्धांत सर्वप्रथम न्यूटन ने दिया I
  • प्रकाश का वेग सर्वप्रथम रोमर ने मापा I
  • सूर्य से पृथ्वी तक प्रकाश पहुँचने में लगभग 500 सेकेंड का समय (8 मिनट ,20 सेकेंड) लगता है I
  • सूर्योदय से कुछ मिनट पूर्व ही अर्थात क्षितिज से नीचे होने पर भी सूर्य के दिखाई पड़ने का कारण प्रकाश का अपवर्तन है I 
  • मृग मरीचिका (mirage) प्रकाश पूर्ण आंतरिक परावर्तन के कारण होता है I 
  • एंडोस्कोप (आंतरिक पेट का परीक्षण करने वाला उपकरण) पूर्ण आंतरिक परावर्तन के सिद्धांत पर कार्य करता है I
  • तंतु प्रकाशिकी पूर्ण आंतरिक परावर्तन के सिद्धांत पर कार्य करता है l
  • वायुमंडल में प्रकाश का विसरण वायुमंडल में धूल कणों (Dust Particles ) की उपस्थिति के कारण होता है l
  • अंतरिक्ष से आकाश का रंग कला दिखाई देता है l
  • समुद्र का रंग नीला आकाश के परावर्तन तथा जल के कणों द्वारा प्रकाश के प्रकीर्णन के कारण होता है l
  • प्रकाश किरणों के प्रकीर्णन के अध्ययन के लिये सर सी० वी० रमन को नोबेल पुरस्कार मिला था l
  • सर्वाधिक तरंगदैध्र्य प्रकाश के लाल रंग के प्रकाश का होता है l
  • किसी प्रिज्म से गुजरने पर बैंगनी रंग की प्रकाश किरण सबसे अधिक अपवर्तित होती है l
  • प्रकाश के रंग का निर्धारक प्रकाश का तरंगदैध्र्य है l
  • यदि किसी दर्पण को 0 कोण से घुमा दिया जाए तो परावर्तित किरण 20 अंश से घूम जायगी l
  • वह काल्पनिक रेखा जो फोकस एवं पोल से गुजरते हुए गोलाकार दर्पण पर पड़ती है , प्रिंसिपल अक्ष कहलाती है l
  • सफ़ेद पर्दे पर छाया वास्तविक और बड़ी बनती है l
  • प्रकाश की गति 3×108 मीटर/से० होती है l
  • दो समतल दर्पणों के बीच स्थित वास्तु से अनंत प्रतिबिंब बनते हैं l
  • दादी बनाने हेतु अवतल दर्पण का प्रयोग किया जाता है l
  • सूर्य से आने वाली प्रकाश किरण को अवतल दर्पण की सहायता से एक बिंदु पर केंद्रित किया जा सकता है l
  • एक अवतल दर्पण के वक्रता केंद्र से होकर दर्पण पर आपतित किरण के लिये आपतन कोण का मान 00 होगा l
  • वाहनों में पीछे का दृश्य देखने के लिये चालक के बगल में उत्तल दर्पण लगा रहता है l
  • जल में वायु का बुलबुला अवतल लेंस की भांति व्यवहार करता है l
  • कैमरे में उत्तल लेंस का प्रयोग करते हैं l उत्तल लेंस की क्षमता धनात्मक तथा अवतल लेंस की क्षमता ऋणात्मक होती है l
  • दो स्वतंत्र प्रकाश स्रोतों से निकली प्रकाश तरंगों में व्यतिकरण की घटना नहीं पाई जाती है l
  • प्रकाश तरंगों का प्रकाशीय प्रभाव केवल विद्युत् वेक्टरों (विद्युत – क्षेत्र ) के कारण होता है l
  • रेटिना की शंकु (Cones ) कोशिका से रंग का एवं छड़ (Rods ) कोशिका से प्रकाश की तीव्रता का आभास होता है l
  • जब आंख में धूल जाती है तो उसका नेत्र – श्लेष्मता (Conjunctiva ) अंग सूज जाता है और लाल हो जाता है l
  • आंख के रंग से मतलब आइरिस रंग से होता है l
  • रडार , शत्रु के वायुयानों का पता लगाने के लिये रेडियो तरंगों का प्रयोग करता है l
  • आती हुई कार की चाल को मापने के लिये यातायात अधिकारी (Traffic officer ) उस पर सूक्ष्म तरंगों की किरणे डलता है l
  • श्रव्य ध्वनि तरंगों की आवृति का परास (Range ) 20 Hz से 20000 Hz होता है l
  • यांत्रिक या ध्वनि तरंगें शून्य (Space/Vaccum ) में संचरित नहीं होती हैं l
  • वातावरण में ध्वनि की तीव्रता नापने में डेसीबल इकाई का प्रयोग किया जाता हैं l
  • मनुष्यों के लिये मानक ध्वनि स्तर 30 -60 डेसीबल होता है l
  • ध्वनि अनुदैध्र्य तरंगों के रूप में यात्रा करती है l
  • चमगादड़ पराश्रत्य ध्वनि उत्पन्न करता है l
  • डेसीबल ध्वनि की तीव्रता की इकाई है l
  • ध्वनि तरंगों में ध्रृवण की घटना नहीं होती है l
  • जब हमें ध्वनि सुनाई पड़ती है तो हम इसके स्रोत्र का अनुमान ध्वनि की तीव्रता से अनुमान लगा सकते है l
  • ध्वनि तरंगों की गति लंबवत होती है l
  • पराश्रव्य की आवर्ती 20,000 हर्ट्ज से ऊपर होती है l
  • जब ध्वनि तरंगे चलती हैं तो ये अपने साथ द्रव्यमान को साथ ले जाती है l
  • ध्वनि तरंगों का विवर्तन , ध्वनि का अवरोध के किनारे से मुड़कर आगे बढ़ना होता है l
  • ध्वनि स्त्रोत ओर श्रोता के मध्य आपेक्षिक गति के कारण आभासी आवृति में परिवर्तन ” डॉप्लर प्रभाव ” है l
  • किसी माध्यम का ताप बढ़ने पर उस माध्यम में प्रकाश का वेग अपरिवर्तित जबकि ध्वनि का वेग बढ़ जायेगा l
  • किसी माध्यम में समान आवृति की एक ही दिशा में गतिमान तरंगों में होने वाला ऊर्जा का पुनवीतरण व्यतिकरण कहलाता है l
  • स्टेथोस्कोप ध्वनि के सिद्धांत पर कार्य करता है l
  • किसी वास्तु की गति और उसी माध्यम में ध्वनि की गति का अनुपात ज्ञात करने में मैक संख्या का प्रयोग किया जाता है l
  • ध्वनि तरंगों के एक माध्यम से दूसरे माध्यम में प्रवेश करने पर आवृति में कोई परिवर्तन नहीं होता है l
  • ध्वनि का तारत्व आवृति पर निर्भर करता है l
  • अनुदैध्र्य तरंगों का ध्रृवण नहीं होता है l
  • जिन ध्वनि तरंगों की आवृति 20 (Hz ) से कम होती है उन्हें अपश्रव्य तरंगें कहते हैं l
  • पल पर सैनिकों के कदमताल करने से पुल के टूटने का खतरा रहता है, क्योंकि अनुनादी अवस्था उत्पन्न होने से पुल के कंपन का आयाम बढ़ जाता है l
  • पराध्वनिक विमान जो प्रघाती तरंगें पैदा करते हैं, उनको ध्वनि बूम कहते हैं l
  • ध्वनि की गुणता (Quality ) के कारण हम अपने मित्रों की आवाज सुनकर पहचान लेते हैं l
  • सामान्य तीव्रता (Intensity ) तथा तारत्व (Pitch ) की ध्वनियों में अंतर् गुणता (Quality ) कहलाता है l
  • पुरुषों के अपेक्षा महिलाओं की आवाज का तारत्व (Pitch ) अधिक होता है l
  • इकोसाउण्डिंग तकनीक का प्रयोग सागर (Ocian ) की गहराई नापने में किया जाता है l
  • स्पष्ट प्रतिध्वनि सुनने के लिये ध्वनि का परावर्तन करने वाली सतह तथा श्रोता के बीच न्यूनतम दुरी 17 .2 मीटर होना चाहिये l
  • दो वस्तुओं के बीच ऊष्मा के प्रवाह को निर्धरित करने वाली भौतिक राशि , ताप (Temperature ) कहलाती है l
  • द्रव्य के अणुओं की औसत गतिज ऊर्जा से द्रव्य का ताप व्यक्त होता है l
  • न्यून तापमानों के अध्य्यन को निम्न तापिकी (Cryogenics ) कहते हैं l
  • -400 तापमान पर सेल्सियस एवं फारेनहाइट दोनों पैमानों पर समान पाठ्यांक होगा l
  • न्यूनतम संभव ताप – 273.150C होता है l
  • परम शून्य ताप ( Absolute zero temperature ) को न्यूनतम संभव ताप कहते हैं l
  • एक स्वस्थ मनुष्य के शरीर का ताप40F होता है l
  • थर्मोकपल (ताप युग्म ) तापमापी सिबेक प्रभाव के सिद्धांत पर कार्य करता है l
  • क्रायोजेनिक निम्न तापमान से संबंधित है ?
  • केल्विन पैमाने पर जल का क्वथनांक 373k होगा l
  • कैलोरी मीटर प्रायः तांबे का ही बनाया जाता है , क्योंकि तांबा ऊष्मा का अच्छा चालक है तथा किसी भी ताप का जल उसमें डालने पर शीघ्र ही समान रूप से पुरे कैलोरी मीटर में फेल जाता है l
  • कभी – कभी जाड़ें में पाला पड़ने पर पौधों के तने (stems ) फट जाते हैं क्योंकि पाला पड़ने पर तनों के अंदर का जल जमकर बर्फ बन जाता हैं और बर्फ का आयतन जल के आयतन के अधिक होता है l
  • जल का आयतन प्रत्यास्थता गुणांक7X10-5 प्रति केल्विन होता है l
  • पानी के किसी द्रव्यमान को 00C से 100C तक गर्म करने से उसका आयतन 00C से 40C तापमान तक घटेगा फिर उसके बाद भढने लगेगा l
  • पानी के ग्लास में एक बर्फ का टुकड़ा तैर रहा है l जब बर्फ पिघलती है , तो पानी का स्तर उतना ही रहेगा l
  • केल्विन स्केल में मानव शरीर का समान्यतः तापमान 310k होता है l
  • जल का अधिकतम घनत्व 277 केल्विन होता है l
  • ठोस में ऊष्मा का संचरण चलन विधि द्वारा होता है l
  • जलवाष्प में भंडारित ऊष्मा गुप्त ऊष्मा है l
  • संघनन वाष्प का द्रव्य में परिवर्तन है l
  • जब पानी में नमक मिलाया जाता है तो क्वथनांक बढ़ता है और जमाव बिंदु घटता है l
  • पारा ऊष्मा का सर्वोतम सुचालक है l
  • जल का घनत्व अधिक्तम 40C ताप पर होता है l
  • एक किलो कैलोरी ऊष्मा18 x 103 जूल कार्य के तुल्य होती है l
  • निम्न तापिकी (Cryogenics ) में उत्पन्न निम्न ताप रुद्धोष्म प्रक्रम द्वारा प्राप्त होता है l
  • ठोस (solid ) कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) को सुखी बर्फ ( Dry Ice ) कहते हैंl
  • आदर्श गैस की आंतरिक ऊर्जा केवल ताप पर निर्भर करती है l
  • उष्मागतिकी का प्रथम नियम ऊर्जा संरक्षण अवधारणा की पुष्टि करता है l
  • एक आदर्श गैस को स्थिर ताप पर संपिड़ित किया जाता है तो उसकी आंतरिक ऊर्जा अपरिवर्तित रहेगी l
  • सूर्य के प्रकाश की ऊर्जा पृथ्वी तक विकिरण (Radiation ) द्वारा पहुंचती है l
  • बादल आच्छादित रातें स्वच्छ आकाश वाली रातों से अधिक गर्म होती हैं क्योंकि बादल पृथ्वी तथा हवा से ऊष्मा का विकिरण रोकता हैl
  • पारे का हिमांक – 390C तथा क्वथनांक 3570C होता है l
  • पारा एवं गैलियम धातु साधारण ताप (At the room temperature ) पर द्रव अवस्था में होता होता है l
  • मानव के स्वास्थ्य के लिये अनुकूलतम आपेक्षित आद्रता 60-65% होती है l
  • किसी पदार्थ को गुप्त ऊष्मा देने से उसकी स्तितिज ऊर्जा में वृद्धि होती है l
  • ताप बढ़ने पर आपेक्षित आद्रता (R .H ) बढ़ जाती है l
  • अपेक्षित आद्रता मापने के लिये हाइग्रोमेटेर (Hygrometer ) नमक यंत्र का इस्तेमाल करते हैं l
  • विद्युत आवेश का मात्रक कूलॉम है l
  • आवेश अदिश राशि है l
  • आवेशन की क्रिया में एलेक्ट्रॉनों का स्थानांतरण होता है l
  • आवेशों के लिये ऋणात्मक एवं धनात्मक पडूँ का प्रयोग सर्वप्रथम बेंजामिन फ्रेंकलिन ने क्या था l
  • धातुओं में विद्युत् चालक की क्रिया मुक्त एलेक्ट्रॉनों के कारण होती है l
  • सबसे अच्छा चालक चांदी होता है l
  • विभव आवेश काI मात्रक जूल/कूलॉम या वोल्ट होता है l
  • तड़ित चालक बनाने में प्रायः तांबा धातु का प्रयोग करते हैं l
  • विद्युत धरा अदिश राशि है l
  • विद्युत सेल में रसियनिक ऊर्जा का रूपांतरण विद्युत ऊर्जा में होता है l
  • प्रत्यावर्ती धारा (AC) को द्रिष्ट धारा (DC) में बदलने के लिये रेक्टिफायर का उपयोग होता है l
  • ठोस अवस्था में विद्युत धारा प्रवाहित करने वाला अधातु ग्रेफाइट है l
  • तड़ित से वृक्ष में आग विद्युत ऊर्जा के कारण लगती है l
  • थर्मोस्टैट का प्रयोजन तापमान को स्थिर रखना होता है l
  • विद्युत प्रतिरोधकता या विशिष्ट प्रतिरोध (P) का SI मात्रक ओम – मीटर (r-m) है l
  • हेनरी स्वप्रेरकत्व (Electrical induction) की इकाई है l
  • किसी अर्धचालक का प्रतिरोध गर्म करने पर घटता है l
  • गैल्वेनोमीटर के द्वारा धारा का पता लगाया जाता हैl
  • अतिचालक का प्रतिरोध शून्य होता है l
  • ऑक्सीजन अनुचुंबकीय है l
  • विद्युत परिपथ में विद्युत धारा की उपस्थिति बताने वाला यंत्र धारामापी (Galvanometer) है l
  • ओम का नियम केवल धात्विक चालकों हेतु सत्य है l
  • अति चालक बनाने के लिये सीमा एवं पारा सर्वोतम धातुएँ हैं l
  • विद्युत धारा (करेंट) का मान चार्ज /समय पर निर्भर करता है l
  • किसी चालक तार के प्रतिरोध का तापमान बढ़ाने से बढ़ता है l किसी अर्धचालक को गरम करने पर उसका प्रतिरोध घटता है l
  • विद्युत अपघटन का नियम फैराडे ने दिया था l
  • किसी चुंबक का अधिकतम चुंबकत्व उसके ध्रुवों पर होता है l
  • चुंबकीय क्षेत्र की तीव्रता का मात्रक ऐंपियर / मीटर, गॉस, टेस्ला इत्यादि होता है l
  • मुक्त रूप से निलंबित चुंबकीय सुई उत्तर-दक्षिण दिशा में रूकती है l
  • विद्युत उत्पादन केंद्रों पर उत्पादित विद्युत प्रत्यावर्ती धारा होता है l
  • परमाणु बम नाभिकीय विखंडन (Nuclear Fission ) पर आधारित है l
  • सौर ऊर्जा का मुख्य कारक नाभिकीय संलयन है l
  • यूरेनियम विखंडन की सतत प्रक्रिया को जारी रखने में न्युट्रान कण की जरुरत होती है l
  • परमाणु बम में प्रायः यूरेनियम ( U235) या प्लूटोनियम (Pu239) का प्रयोग किया जाता है l
  • इंदिरा गाँधी आण्विक अनुसंधान केंद्र तमिलनाडु में स्थित है l
  • कार्बन डेंटिंग का प्रयोग फॉसिल्स की उम्र निर्धारित करने के लिए किया जाता है l
  • कलपक्क्म के ‘फास्ट ब्रीडर रिएक्टर’ में गलित सोडियम का प्रयोग किया जाता है l
  • 235U92 के एक विखंडन में औसत रूप से 3 न्यूट्रॉनों का उत्सर्जन होता है l
  • न्यूट्रॉन की खोज चैडविक ने की l
  • ‘क्यूरी’ रेडियो सक्रियता की इकाई है l
  • ऑटोहान ने अणु बम की खोज नाभिक विखंडन के सिद्धांत पर की l
  • कलपक्क्म (तमिलनाडु ) स्थित परमाणु ऊर्जा संस्थान का नाम इंदिरा गाँधी सेंटर फॉर एटॉमिक रिसर्च है l
  • भारत का प्रथम परमाणु अनुसंधान रिएक्टर अप्सरा है l
  • तारें अपनी ऊर्जा नाभिकीय संलयन एवं गरुत्वीय संकुचन द्वारा प्राप्त करते हैं l
  • यूरेनियम के रेडियोएक्टिव विघटन के फलसवरूप अंततः सीसा बनता है l
  • भारत का प्रथम परमाणु संयंत्र तारापुर परमाणु विद्युत संयंत्र है l
  • हायड्रोजन बम ड्यूटीरियम के नाभकीय संलियन की अनियंत्रित सभीक्रिया पर कार्य करता है l
  • रेडियो का आविष्कार मैडम क्यूरी ने किया l
  • थोरियम का मुख्य स्रोत मोनाजाइट है l
  • कलपक्क्म के फॉस्ट ब्रीडर रिएक्टर में शीतलक (coolent) के रूप में गलित सोडियम का प्रयोग किया जाता है l
  • परमाणु रिएक्टर एक प्रकार की भट्ठी है जिसमें रेडयोधर्मी समस्थानिकों का विखंडन कर ऊर्जा प्राप्त की जाती है l
  • ताप बढ़ाने पर उर्द्ध – चालक की चालकता बढ़ जाती है l
  • उर्द्ध-चालकों की चालकता कुचालकों से ज्यादा और सुचालकों से कम होती है l
  • उर्द्ध-चालकों की चालकता ताप वृद्धि द्वारा अथवा कोई उपयुक्त अशुद्धि मिलकर बढ़ाई जा सकती है l
  • कृत्रिम उपग्रहों में विधुत ऊर्जा का अक्षय स्रोत सौर सेल है l
  • सौर सेल सिलिकन की बनी होती हैंl
  • सौर सेलों का सर्वाधिक महत्वपूर्ण लाभ प्रदूषण मुक्त अक्षय ऊर्जा का स्रोत है l
  • किसी धातु का कार्य फलन किसी धातु की सतह से एलेक्ट्रॉनों को बाहर निकलने के लिये आवश्यक न्यूनतम गतिज ऊर्जा है l
  • कैथोड किरणों की खोज जे० जे० टॉमसन ने की l
  • प्रकाश विद्युत प्रभाव की खोज हेनरीज हटर्ज ने की l
  • आईंस्टीन को नोबेल पुरस्कार प्रकाश विद्युत प्रभाव की व्याख्या करने हेतु दिया गया था l
  • सर्वप्रथम लेजर की खोज थियोडोर मेमैन ने किया l
  • राडार के आविष्कार का श्रेय राबर्ट वाटसन वाट को प्राप्त है l
  • सर्वप्रथम मेसर बनाने का श्रेय गीगर , गॉर्डन एवं टाउन्स नमक वैज्ञानिकों को प्राप्त है l
  • ट्रांसफार्मर विद्युत – चुंबकीय प्रेरण के नियम पर कार्य करता है l

अन्य पोस्ट यहां पढें – 

Join Here – नई PDF व अन्य Study Material पाने के लिये अब आप हमारे Telegram Channel को Join कर सकते हैं !

Click Here to Subscribe Our Youtube Channel

दोस्तो आप मुझे ( नितिन गुप्ता ) को Facebook पर Follow कर सकते है ! दोस्तो अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इस Facebook पर Share अवश्य करें ! क्रपया कमेंट के माध्यम से बताऐं के ये पोस्ट आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks !

दोस्तो कोचिंग संस्थान के बिना अपने दम पर Self Studies करें और महत्वपूर्ण पुस्तको का अध्ययन करें , हम आपको Civil Services के लिये महत्वपूर्ण पुस्तकों की सुची उपलब्ध करा रहे है –

UPSC/IAS व अन्य State PSC की परीक्षाओं हेतु Toppers द्वारा सुझाई गई महत्वपूर्ण पुस्तकों की सूची

Top Motivational Books In Hindi – जो आपकी जिंदगी बदल देंगी

सभी GK Tricks यहां पढें

TAG – Physics Hindi Notes , Physics GK in Hindi , Physics in Hindi , Physics Question in Hindi PDF , Physics Notes in Hindi PDF Free Download , Physics Handwritten Notes in Hindi , General Science in Hindi

About the author

Nitin Gupta

My Name is Nitin Gupta और मैं Civil Services की तैयारी कर रहा हूं ! और मैं भारत के हृदय प्रदेश मध्यप्रदेश से हूँ। मैं इस विश्व के जीवन मंच पर एक अदना सा और संवेदनशील किरदार हूँ जो अपनी भूमिका न्यायपूर्वक और मन लगाकर निभाने का प्रयत्न कर रहा हूं !!

मेरा उद्देश्य हिन्दी माध्यम में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने बाले प्रतिभागियों का सहयोग करना है ! आप सभी लोगों का स्नेह प्राप्त करना तथा अपने अर्जित अनुभवों तथा ज्ञान को वितरित करके आप लोगों की सेवा करना ही मेरी उत्कट अभिलाषा है !!

3 Comments

Leave a Comment